है इरादा कुछ, ईशारा तो समझें
कि मेरे अलफ़ज़ कुछ और केहते हैं
और आवाज़ कुछ और 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *