ऐ खुदा, भर मेरा दिल
अपनी मोहब्बत की सिसकियों से कुछ इस तरह
की किसी और के बसने की कोई गुंजाइश ही न रहे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *