तेरे ख़त मुझसे खफ़ा हैं, या तुम कुछ नाराज़ हो गए ?
संदेस मिलते नही मेरे, या खुद ही अब बेज़ार हो गए ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *