तेरी स्याही की उल्फत देख, मेरा कलम कुछ शर्मा गया
अब क्या लिखूँ नगम कोई, जो तेरे गीतों से बतला सके

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *