बिन अक्षर वोह उड़ते पन्ने,
और कलम की सूखी हुई स्याई
सुना चली वोह अनसुनी दास्तां
जो हम केह के भी केह ना सके

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *