है इरादा कुछ, ईशारा तो समझें
कि मेरे अलफ़ज़ कुछ और केहते हैं
और आवाज़ कुछ और